Bhramar ka 'Dard' aur 'Darpan'

this blog contains the pain of society. different colours of life.feelings and as seen from my own eyes .title ..as Naari..Pagli.. koyala.sukhi roti..ghav bana nasoor..ras-rang etc etc

297 Posts

4694 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 4641 postid : 4

" निमंत्रण"-Bhramar-Kavita- hindi poems

Posted On: 20 Feb, 2011 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

” निमंत्रण”

अरबों साल का है ये तारा
पृथ्वी – गोल – चपटा ब्रह्माण्ड ,
सूरज से कितने सूरज हैं
किसने , ‘क्लोन’ बना डाला,

कहें ‘भ्रमर’- जादूगर आओ,
धरती पर – कुछ क्लोन बनाओ,
रोटी – कपडे और मकान का
भूखे नंगे बेघर को दो .

नदी दूध की – स्वर्ग वही हो,
‘कल्पतरु’ और ऋषि मुनियों की ,
‘शांति’ ख़ुशी संस्कृति का-
अपनी – क्लोन बना डालो.

पेट भरेगा – रीढ़ हो सीधी
‘मस्तक’ अपना ऊँचा होगा
‘चाँद’ सितारे सोच तभी
फिर नयी ‘चेतना’
इस बंजर में – ‘जड़’ थामेगी.

सुरेंद्रशुक्लाभ्रमर
१९.२.११ जल पी.बी
६.१६ पूर्वाह्न .

| NEXT

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran