Bhramar ka 'Dard' aur 'Darpan'

this blog contains the pain of society. different colours of life.feelings and as seen from my own eyes .title ..as Naari..Pagli.. koyala.sukhi roti..ghav bana nasoor..ras-rang etc etc

297 Posts

4694 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 4641 postid : 3

लिए "विश्व कप" फोटो चलो खिंचायें.( A COLLECTION OF HINDI POEMS (KAVITA) BY BHRAMAR.

Posted On: 20 Feb, 2011 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

लिए “विश्व कप” फोटो चलो खिंचायें.

( A COLLECTION OF HINDI POEMS (KAVITA) BY BHRAMAR.

आओ ” उनको” दूध मलाई-
ड्राई – फ्रूट खिलाएं
करें धुरंधर – धोनी को
दो चार ‘गीत’ मिल के गायें.

अब तक थे जो लड़ते घर में
बाहर कुछ कर आयें
पीट – पीट के चौका -छक्का
वे ‘दहशत’ फैला आयें.

मंदिर – मस्जिद – गुरूद्वारे जा
रोज दुआ हम मांगे
“जोश” – “होश” में रहें ये “पंद्रह”
अंत में ना ‘ सो’ जाएँ .

इतने “कप” ला रखे जो घर में
नग उसमे पहनाएं ********
“कोहिनूर’ का – “विश्व विजेता”
लिए “विश्व-कप ” फोटो चलो खिंचायें.

हरभजन – संत ले लो-
आशीष – पियूष – आश्विन बरसो
धोनी धुन दो – गौतम गुन दो-
सहवाग संग मिल ‘युवी’ बढ़ो

रैना – सचिन मचे जब धूम
हे मुनाफ – बन के ‘पठान’ तुम
रूप “विराट’ दिखा देना -
दिन में तारे – धूम केतु सब
मिल जहीर संग – हे मुनाफ तुम
सबको धूल चटा देना

मैदां में जब डट जाएँ तो
मुड ना पीछे झांके
“आंधी” -”गुगली” पैदा करके
आन – आफ ना ताकें.

अर्जुन – द्रोण – एकलव्य सा
सारा ‘तप’ दिखला देना
ऊँगली पर रख “विश्व” को उस दिन
“कृष्ण ” का चक्र घुमा देना.

“माँ” के सपने – “लाल” हमारे
झंडा तुम फहरा देना
लिए “विश्व कप ” उस दिन “प्यारे”
“जगमग” ज्योति जला देना -
हर अँखियाँ चमका देना.

आओ तुमको दूध मलाई
ड्राई फ्रूट खिलाएं
“दिल” में तुम्हे सजा करके
“फूलों” का हार पिन्हायें.

सुरेंद्रशुक्लाभ्रमर
२०.२.११ जल पी.बी.
१ मध्याहन .

| NEXT



Tags:         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran